कुआलालंपुर । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहित एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग मंच (एपेक) के नेताओं ने कोरोना के चलते कठिनाइयों का सामना कर रहीं अर्थव्यवस्थाओं को फिर से पटरी पर लाने के लिए मुक्त, खुले और गैर-भेदभावपूर्ण व्यापार और निवेश की दिशा में काम करने का संकल्प लिया। एपेक नेताओं ने 2017 के बाद से शुक्रवार को अपना पहला संयुक्त बयान जारी करने के लिए मतभेदों को अलग रखा, और 21 एपेक अर्थव्यवस्थाओं के बीच बड़े पैमाने पर मुक्त व्यापार समझौते और क्षेत्रीय एकीकरण को मजबूत बनाने पर सहमति जाहिर की है। इस साल की बैठक के मेजबान देश मलेशियाई के प्रधानमंत्री मोहिउद्दीन यासीन ने कहा कि अमेरिका और चीन के व्यापार युद्ध, जिसके चलते अतीत में वार्ता बाधित हुई, वह कोविड-19 के कारण ‘‘खत्म हो गया’’ है। इस साल एशिया-प्रशांत क्षेत्र की वृद्धि दर में 2.7 प्रतिशत गिरावट की उम्मीद है, जो 2019 में 3.6 प्रतिशत की दर से बढ़ी थी। उन्होंने कहा कि एपेक का जोर आर्थिक सुधार में तेजी लाने और एक किफायती टीका विकसित करने पर था।